नेशनल

सीमा पर तनाव का लोकसभा चुनाव पर असर नहीं: निर्वाचन आयोग

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1728
| मार्च 1 , 2019 , 17:40 IST

मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा ने शुक्रवार को कहा कि भारत और पाकिस्तान के बीच मौजूदा तनाव का अप्रैल-मई में होने वाले आम चुनाव पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

अरोड़ा उस सवाल का जवाब दे रहे थे, जिसमें उनसे पूछा गया था कि जम्मू एवं कश्मीर के पुलवामा में 14 फरवरी को किए गए हमले और उसके बाद पाकिस्तान स्थित जैश-ए-मोहम्मद के आतंकी शिविरों पर भारत के हमले के बाद उपजे तनाव के बीच क्या चुनाव को रद्द किया जा सकता है।

यहां योजना भवन में उन्होंने पत्रकारों से कहा, "चुनाव समय पर होंगे।" लोकसभा चुनाव की तिथि की संभावित अधिसूचना के बारे में पूछे जाने पर अरोड़ा ने कहा कि मीडिया और देश को 'प्रेस वार्ता' के जरिए इसकी जानकारी दे दी जाएगी।

उम्मीदवारों को अब विदेशी संपत्ति के विवरण देने होंगे:

देश के मुख्य निर्वाचन आयुक्त सुनील अरोड़ा शुक्रवार को यहां कहा कि अब उम्मीदवारों को विदेशों में स्थित संपत्तियों का विवरण भी देना होगा। अरोड़ा ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, "अब पहली बार ऐसा हो रहा है कि प्रत्याशियों को विदेशों में स्थित अपनी संपत्ति का विवरण देना पड़ेगा। इसमें पैन कार्ड के साथ शपथ-पत्र देना होगा। इसकी आयकर विभाग से जांच कराई जाएगी। इसमें विसंगतियां मिलने पर इसे आयोग की वेबसाइट पर अपलोड किया जाएगा।"

अरोड़ा ने कहा, "इस बार प्रत्याशियों को अपनी पांच वर्ष की आय का विवरण देना होगा, जिसमें स्वयं, पत्नी, बच्चों (बेटा-बेटी) की संपत्ति के विवरण शामिल होंगे।"

उन्होंने ईवीएम पर उठाए जा रहे सवालों पर कहा, "चुनावों में ईवीएम को फुटबॉल बना दिया गया है। अगर रिजल्ट अच्छा है तो ईवीएम अच्छी है, अगर रिजल्ट खराब है तो ईवीएम खराब है।"

अरोड़ा ने कहा कि चुनाव अपने निर्धारित समय पर होंगे। तारीख आगे बढ़ाए जाने की बात को उन्होंने सिरे से नकार दिया। उन्होंने कहा कि चुनाव कराने की हमारी तैयारी पूरी है और हम समय पर ही चुनाव कराएंगे।

उन्होंने कहा कि मतदान केंद्र पर पानी, टॉयलेट, शेड, बिजली की व्यवस्था का प्रावधान किया गया है। इसे और बेहतर किया जाएगा।

उन्होंने कहा, "उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव ने हमें आश्वासन दिया है कि ज्यादातर कमियों को जल्द ही पूरा कर लिया जाएगा। आदर्श आचार संहिता समिति में एक सोशल मीडिया एक्सपर्ट को भी शामिल किया जाएगा।"

उल्लेखनीय है कि मुख्य निर्वाचन आयुक्त तीन दिनों से राजधानी लखनऊ में थे। इस दौरान उन्होंने जिलों व मंडलों के शीर्ष प्रशासनिक व पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक कर चुनाव के मद्देनजर सारे हालात पर चर्चा की।


कमेंट करें