नेशनल

गुजरात में बोले मोदी, दिल्ली से 1 रुपया चलता है तो लोगों को 100 पैसे मिलते हैं

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2020
| अगस्त 23 , 2018 , 14:47 IST

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने गुजरात के वलसाड में पानी के लिए 600 करोड़ रूपये की परियोजना की शुरूआत की। परियोजना की शुरूआत करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि गुजरात में घर-घर नल से जल अभियान शुरू। प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियों को सार्टिफिकेट देने के बाद मोदी ने कहा कि उन्हें रक्षाबंधन के मौके पर तोहफा देकर काफी खुशी हुई है। उन्होंने कहा कि जब दिल्ली से एक रुपये निकलता है तो पूरा का पूरा गरीब तक पहुंचता है। पूरे सौ पैसे पहुंचते हैं। अब बेईमानी पूरी तरह से बंद हो गई है।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि उन्होंन सरकारी ठेकेदारों पर नहीं बल्कि परिवार पर भरोसा किया। हमने बैंकों को गरीब के घर के आगे ला खड़ा किया है। उन्होंने कहा- "देश में एक समय था जब देश में बैंक तो थे लेकिन देश का गरीब बैंकों में प्रवेश नहीं कर पाता था और एक आज का समय है, हमनें बैंकों को ही गरीब के घर के सामने लाके खड़ा कर दिया है।" पीएम मोदी ने कहा कि देश के सामान्य लोगों के सपनों को पूरा करने के लिए हम लगातार प्रयास कर रहें है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सौभाग्य योजना से हर घर में बिजली कनेक्शन होगा।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने गृह राज्य गुजरात के वलसाड प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभान्वितों को सार्टिफिकेट दिया। वलसाड के कार्यक्रम में इस योजना के तहत पांच जिलों वलसाड, नवसारी, तापी, सूरत और डांग जिले के लाभार्थी जुटे। इस कार्यक्रम के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विभिन्न विकास कार्यक्रमों के तहत चुने गए लाभार्थियों को प्रमाणपत्र और रोजगार पत्र सौंपा। इन योजनाओं एवं कार्यक्रमों में दीनदयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना, मुख्यमंत्री ग्रामोदय योजना और राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन शामिल है।

प्रधानमंत्री का जूनागढ़ में कई विकास परियोजनाओं का शुभारंभ करने का कार्यक्रम है। वे गांधीनगर में गुजरात फारेंसिक साइंस यूनिवर्सिटी के दीक्षांत समारोह को संबोधित करेंगे। मोदी का गांधीनगर में राजभवन में श्रीसोमनाथ ट्रस्ट की बैठक में हिस्सा लेने का भी कार्यक्रम है। प्रधानमंत्री इस ट्रस्ट के एक न्यासी हैं।

सूत्रों ने बताया कि केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गुजरात में एक लाख से अधिक मकान तैयार हो गए हैं। इस कार्यक्रम के तहत लाभार्थी 26 जिलों में सामूहिक गृह प्रवेश का उत्सव मनाएंगे।


कमेंट करें