नेशनल

करतारपुर कॉरिडोर बनाने को सरकार की मंजूरी पर बोले सिद्दू-'मेरा गले मिलना रंग लाया'

राजू झा, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1500
| नवंबर 23 , 2018 , 14:47 IST

पाकिस्तान में सीमा के पास स्थित सिखों के पवित्र धार्मिक स्थल करतापुर साहिब गुरुद्वारे के दर्शन के लिए करतारपुर साहिब कॉरिडोर के ऐलान के बाद अब इसका श्रेय लेने की राजनीति शुरू हो गई है। कांग्रेस नेता और पंजाब में मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने शुक्रवार को कहा कि पाकिस्तान के आर्मी चीफ कमर बाजवा को उनकी 'झप्पी' के कारण ही यह मुमकिन हुआ है। बकौल सिद्धू, उनकी यह विवादित झप्पी आखिर रंग लाई है।

बता दें कि सिद्धू के पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के शपथग्रहण समारोह में शामिल होने और बाजवा से गलने मिलने पर खूब विवाद हुआ था। उधर, बीजेपी ने सिद्धू के इस बयान की कड़ी आलोचना करते हुए कहा कि करतारपुर साहिब तक कॉरिडोर बनाने की घोषणा भारत सरकार ने की है।

बीजेपी के प्रवक्ता संबित पात्रा ने सिद्धू पर कटाक्ष करते हुए कहा कि वह हैरान है कि सिद्धू पाकिस्तान की कैबिनेट में होने के बजाय मध्य प्रदेश में थे। भारत सरकार को अपने फैसले के लिए धन्यवाद कहने के बजाय वह पाकिस्तान आर्मी के चीफ को थैंक्स कह रहे हैं। संबित ने कहा, 'सिद्धू जी थोड़ा तो शर्म करिए। रह रहकर इमरान खान, इमरान खान कर रहे हैं। सिद्धू कह रहे हैं कि यह पाकिस्तान के कारण खुला है जबकि गुरुवार को वित्त मंत्री अरुण जेटली ने करतारपुर साहिब तक कॉरिडोर बनाने की घोषणा की थी।'

हालांकि नवजोत सिंह सिद्धू ने फैसला आने के बाद गुरुवार को ट्वीट कर सरकार का शुक्रिया अदा किया था। उन्होंने लिखा, 'मैं तहे दिल से भारत सरकार को धन्यवाद करता हूं। मैं पाकिस्तान के सम्मानीय प्रधानमंत्री इमरान खान साहब से करतारपुर कॉरिडोर खोलने के लिए मिलकर कदम उठाने की गुजारिश करता हूं।'

भारत सरकार सिखों के प्रथम गुरू नानक देव की 50वीं जयंती पर करतारपुर साहिब तक कॉरिडोर का निमार्ण करेगी। अरूण जेटली ने बुधवार को केंन्द्रीय कैबिनट की बैठक में इसका फैसला लिया गया और वित्त मंत्री अरूण जेटली ने इसकी जानकारी दी।

बता दें कि पंजाब सरकार ने मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू की पाकिस्तान यात्रा के बाद से ही करतारपुर साहिब कॉरिडोर की चर्चाएं जोरों पर थी। अब इस पर केंद्र सरकार ने बड़ा फैसला किया है। वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भी प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कैबिनेट के फैसलों की जानकारी दी।

राजनाथ सिंह ने जानकारी दी कि केंद्र सरकार इस पर्व को बड़े पैमाने पर मनाएगी। सरकार गुरदासपुर जिले से लेकर अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर तक करतारपुर कॉरिडोर का निर्माण करेगी। जहां सभी जरूरी सुविधाएं मुहैया कराई जाएंगी। इस कॉरिडोर से लोगों को करतारपुर साहिब जाने में मदद मिलेगी।

इसके अलावा पाकिस्तान सरकार से अपील की जाएगी वह अपने क्षेत्र के हिस्से में इसके लिए सुविधाएं बढ़ाएं। सरकार ने इसके अलावा ये भी फैसला किया है कि पंजाब के कपूरथला जिले में आने वाले सुल्तानपुर लोधी शहर को स्मार्ट सिटी के तौर पर डेवलप किया जाएगा।बता दें कि इस शहर को 'पिंड बाबे नानक दा' के नाम से जाना जाता है।

इसके अलावा अमृतसर में भी गुरु नानक के नाम पर यूनिवर्सिटी बनाई जाएगी, जहां धर्म से जुड़ी पढ़ाई करवाई जाएगी। इस यूनिवर्सिटी का टाइअप अंतरराष्ट्रीय विश्वविद्यालयों से किया जाएगा।

वहीं रेल मंत्रालय भी गुरु नानक देव से जुड़े स्थानों के लिए स्पेशल ट्रेन चलाएगा। भारत सरकार द्वारा यूनेस्को से अपील की जाएगी कि गुरु नानक के विचारों को सभी भाषाओं में प्रकाशित किया जाए।

बता दें कि पाकिस्तान भी इस महीने के अंत से ही कॉरिडोर बनाना शुरू कर देगा। इमरान खान खुद इसकी शुरुआत करेंगे। हालांकि, इसकी तारीख तय नहीं हुई है. कॉरिडोर 2019 तक पूरा हो सकता है।

कई और अहम फैसले

जेटली ने बताया कि दादरा और नगर हवेली के सिलवाथा में मेडिकल कॉलेज बनाया जाएगा। अलाइड मेडिकल सर्विसेज के रजिस्ट्रेशन, एजुकेशन और ऐक्सपेंशन के बिल को भी मंजूरी दे दी है।


कमेंट करें