नेशनल

बंगाल में हनुमान जयंती पर हथियारों के साथ रैलियों पर रोक

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2014
| मार्च 31 , 2018 , 17:08 IST

हनुमान जयंती के अवसर पर पश्चिम बंगाल में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किये गए है। दरअसल रामनवमी के दौरान हुई हिंसा के बाद पुलिस ने सबक ले लिया है इसलिए  राज्य में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। पुलिस ने अगले दो दिनों तक सभी मंदिरों, मस्जिदों और धार्मिक संस्थानों को अतिरिक्त सुरक्षा प्रदान की है। ममता सरकार ने हथियार लेकर रैलियां करने पर पूरी तरह से रोक लगा दी है।

पश्चिम की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार को राज्य के डीजीपी, एडीजी (लॉ एंड ऑर्डर), गृह सचिव और मुख्य सचिव के साथ बैठक की। इस बैठक के दौरान उन्होंने हिंसा की घटना किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने के निर्देश दिए और अगर कोई हथियार के साथ रैलियों में पकड़ा जाता है उसपर कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश दिए है।

Fgh

राज्य में राम नवमी उत्सव के दौरान हुई हिंसा की घटनाओं को देखते हुए बीजेपी और विश्व हिन्दू परिषद (VHP) ने हनुमान जयंती के अवसर पर किसी भी बड़ी रैली को नहीं निकालने का फैसला किया है । दोनों पार्टी और संगठन ने अपने कार्यक्रमों को मंदिर और स्थानीय क्लबों तक सीमित रखने का फैसला किया है ।

आसनसोल-दुर्गापुर पुलिस कमिश्नर एलएन मीणा ने कहा हमने प्रदेश में शांति बनाए रखने के लिए कोलकाता और राज्य के अन्य हिस्सों से अतिरिक्त बल बुलवाया है, इस दौरान केवल बिना हथियारों के जुलूस को ही अनुमति होगी।

उन्होंने बताया कि पुलिस उन सभी शरारती तत्वों पर बारीकी से नजर बनाए हुए है, जो हिंसा फैलाने का प्रयास कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि 60 से ज्यादा व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया है और पुलिस की छापेमारी जारी है।

क्या है पूरा मामला ?

रामनवमी के दिन भड़की हिंसा आसनसोल तक पहुंच गई है। हादसे में दो दर्जन से अधिक घरो मर आग लगा दी गई है और 3 लोगो की जान भी जा चुकी हैं।
जिससे पूरे इलाके में धरा 144 लगा दी गई है और इंटरनेट सेवा भी बंद कर दी गई है। इसी घटनाओ से प्रशासन हरकत में नज़र आ रहा है।

Gd


कमेंट करें