नेशनल

8 नवंबर को जश्न के रूप में 'काला धन विरोधी' दिवस मनाएगी BJP : अरुण जेटली

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
404
| अक्टूबर 25 , 2017 , 18:40 IST

नोटबंदी को 8 नवंबर को 1 साल हो जाएगा। इस पर विपक्ष कांग्रेस ने एक साल पूरे होने पर काला दिवस मनाएगी। वहीं बीजेपी ने भी एेलान कर दिया है कि 8 नवंबर को काला धन विरोधी दिवस मनाएंगें। आपको बता दें कि बीते साल 8 नवंबर को नोटबंदी लागू हुई थी। नोटबंदी के एक साल पूरा होने के मौके पर मोदी सरकार ने कामयाबी का जश्न मनाने का ऐलान किया है। यह जानकारी वित्त मंत्री अरुण जेटली ने बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर दी।

जेटली ने बताया कि देशभर के भाजपा नेता, केंद्रीय मंत्री, राज्य सरकार के मंत्री, प्रमुख पार्टी कार्यकर्ता कार्यक्रमों का आयोजन करेंगे और नोटबंदी की सफलता का जश्न मनाते हुए लोगों को इससे हुए फायदे की जानकारी देंगे। जेटली ने कहा, 'कुछ ऐसे राजनीतिक दल हैं, जो पहले शासन में थे। वे ब्लैक मनी के खिलाफ कार्रवाई हो, जब्त किया जाए, ये कोई छोटे कदमों के साथ उपलब्ध नहीं होता'।

उन्होंने कहा कि 8 तारीख की बहस देश को प्रो-एक्सेसिव कैश इकोनॉमी और एंटी ब्लैक मनी कैंपेन के बीच में वैचारिक दृष्टि से पोलेराइज करती है तो बीजेपी इस बहस को आगे बढ़ाएगी। जेटली ने कहा कि नोटबंदी कालेधन के खिलाफ एक बड़ा अभियान था। इसके जरिये ब्लैक मनी पर आखिरी मौका दिया गया। उन्होंने कहा कि नोटबंदी का एक मकसद ‘लेस कैश इकोनॉमी’ को बढ़ावा देना भी था।

वित्त मंत्री ने यह भी कहा कि जीएसटी के माध्यम से एक नया दौर चल रहा है।नोटबंदी को सरकार का बड़ा कदम बताते हुए जेटली ने कांग्रेस पर भी जमकर निशाना साधा। जेटली ने कहा कि कांग्रेस ने कालेधन के खिलाफ कभी कोई कदम नहीं उठाए।


कांग्रेस का ऐलान:

कांग्रेस ने नोटबंदी को सदी का सबसे बड़ा घोटाला करार देते हुए कहा कि इस फैसले के एक साल पूरे होने पर कांग्रेस आठ नवंबर को काला दिवस मनायेंगी तथा देश भर में विरोध-प्रदर्शन करेंगी। विपक्ष का दावा है कि नोटबंदी के कारण अर्थव्यवस्था एवं नौकरियों को नुकसान पहुंचा है।

राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि पिछले साल आठ नवंबर को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 1000 रुपये और 500 रूपये के नोटों को प्रचलन से बंद किये जाने की घोषणा की थी।

विपक्ष ने तभी नोटबंदी के फैसले के कारण अर्थव्यवस्था की हालत बुरी होने, बेरोजगारी बढ़ने और सकल रेलू उत्पाद (जीडीपी) कम होने की आशंका जतायी थी।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें