नेशनल

बिहार: मुंगेर में 31 घंटे बाद 110 फीट गहरे बोरवेल से सुरक्षित निकाली गई 3 साल की सना

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2830
| अगस्त 1 , 2018 , 22:02 IST

बिहार के मुंगेर में 3 साल की बच्ची सना को बुधवार रात 9 बजकर 40 मीनट पर बोरवेल से निकाला गया। वह मंगलवार शाम 110 फीट गहरे बोरवेल में गिर गई थी और 43 फीट की गहराई में फंसी थी। करीब 30 घंटे 40 मिनट बाद सना को बोरवेल से निकाला गया। सना के माता-पिता को पहले ही एम्बुलेंस में बैठाया गया था। बोरवेल से निकालकर सना को सीधे एम्बुलेंस में ले जाया गया। मौके पर जुटी भारी भीड़ को रस्सी घेरकर दूर रखा गया। बच्ची को तेजी से मुंगेर सदर हॉस्पिटल ले जाया जा सके इसके लिए पुलिस ने स्कॉट किया। बच्ची को इलाज के लिए मुंगेर सदर हॉस्पिटल में भर्ती किया गया है।

ऐसे चला रेस्क्यू ऑपरेशन

सना मंगलवार शाम करीब चार बजे बोलवेल में गिर गई थी। वह पहले बोलवेल में करीब 25 फीट की गहराई में फंसी हुई थी। स्थानीय लोगों ने बचाने की कोशिश की, लेकिन वे सफल नहीं हुए। इस दौरान सना खिसककर 43 फीट की गहराई तक पहुंच गई थी। मंगलवार रात को मौके पर एसडीआरएफ की टीम पहुंची, लेकिन उसे निकाला नहीं जा सका। बुधवार सुबह राहत कार्य फिर शुरू किया गया। भागलपुर और खगड़िया से एसडीआरएफ की टीम मौके पर पहुंची। बोरवेल से 12 फीट की दूरी पर समानांतर गड्ढा खोदा गया। गड्ढे के करीब 43 फीट गहरा होने पर बोरवेल तक सुरंग की खुदाई की गई। इसी सुरंग से बच्ची को बाहर निकाला गया।

मां की आवाज से बच्ची ने की थी हरकत

31 घंटे तक बच्ची बोलवेल में फंसी रही। इस दौरान मां की आवाज उसे हिम्मत देती रही। मां लगातार बच्ची से बात कर रही थी और उसे कह रही थी कि हम तुम्हे निकाल लेंगे। वह मां की आवाज सुन हड़कत कर रही थी। मंगलवार सुबह पहले पाइप से सना तक ऑक्सिजन पहुंचाया गया। सना को बचाने के लिए पटना से एनडीआरएफ की टीम अपने आधुनिक उपकरण के साथ पहुंची। एनडीआरएफ और एसडीआरएफ टीम के संयुक्त प्रयास से बच्ची को बाहर निकाला गया। पूरे रेस्क्यू ऑपरेशन के दौरान सीसीटीवी कैमरे से बच्ची पर नजर रखी गई। मुंगेर एसपी ने कहा कि बच्ची पूरी तरह से सुरक्षित है। बच्ची ने कुछ खाया और पानी पिया है।


कमेंट करें