बिज़नेस

33 रुपये में तैयार होने वाला पेट्रोल गाड़ी में आते-आते 70 का हो जाता है, समझिये पूरा खेल

अमितेष युवराज सिंह | न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2001
| जनवरी 22 , 2018 , 19:04 IST

देशभर में पेट्रोल और डीजल की कीमतों को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। प्रतिदिन तेल की कीमतों में इजाफा हो रहा है। सोमवार को तो पेट्रोल की कीमत 80 रुपये के पार हो गई। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कच्चे तेल की बढ़ी कीमतों की वजह से घरेलू बाजार में कीमतें बढ़ रही हैं। कीमत बढ़ने की वजह सिर्फ यही नहीं है। कीमतें ज्यादा होने के लिए इसपर लगने वाला टैक्स भी जिम्मेदार है।

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि तेल कंपनियों के स्तर पर एक लीटर पेट्रोल करीब 33 रुपये में तैयार हो जाता है लेकिन लोगों की गाड़ियों तक पहुंचते-पहुंचते यह 70 से लेकर 80 रुपये हो जाता है।

ऐसे होती है 70 रुपये कीमत

इंडियन ऑयल कंपनी के डाटा के मुताबिक कंपनी ने एक लीटर पेट्रोल तैयार कर उसे  33 रुपये में डीलर को बेचा। डीलर ने इस पर करीब 4 रुपये अपना कमीशन जोड़ा। इस तरह एक लीटर पेट्रोल की कीमत 37 रुपये हो गई। डीलर के अपना कमीशन जोड़ने के बाद केंद्र सरकार और राज्य सरकार की तरफ से वसूला जाने वाला टैक्स लगाया जाता है। इसमें केंद्र की तरफ से एक्साइज ड्यूटी और राज्यों की तरफ से वैट वसूला जाता है।

केंद्र सरकार की तरफ से 19.88 रुपये की एक्साइज ड्यूटी लगाई जाती है। वही, राज्य सरकार (आप दिल्ली मान लें) इसपर करीब 15.11 रुपये वैट के तौर पर वसूलती है। वैट और एक्साइज ड्यूटी लगने के बाद आपको एक लीटर पेट्रोल के लिए करीब 71.59 रुपये चुकाने पड़ेंगे। सोमवार को दिल्ली में एक लीटर पेट्रोल की कीमत 72.23 रुपये थी।

PETROL_Gfx2

अब आपको समझ में आ गया होगा कि 33 रुपये में तैयार होने वाला पेट्रोल आपके पास आते-आते कैसे 70 रुपये का हो जाता है। अगर केन्द्र और राज्य सरकारें अपने-अपने टैक्स में कटौती कर दे तो लोगों को कम कीमत में पेट्रोल और डीजल मिलने लगेगा।

नोट: पेट्रोल की कीमत की ये पूरी गणना 14 जनवरी को इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन लिमिटेड के डाटा पर आधारित है।  

Media0aw6PETROL_Gfx


कमेंट करें