इंटरनेशनल

मुस्लिम बैन पर अदालती फैसले से ट्रंप नाराज़, कहा- अमेरिका में कुछ हुआ तो जज होंगे जिम्मेदार

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
529
| फरवरी 6 , 2017 , 09:26 IST

सात मुस्लिम बहुल देशों के नागरिकों पर लगाए गए यात्रा प्रतिबंधों को अदालत द्वारा रोक दिए जाने पर राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने न्यायपालिका की आलोचना तेज कर दी है और कहा है कि ‘‘यदि कुछ होता है’’ तो उसका दोष संघीय न्यायाधीश और अदालत पर लगाया जाना चाहिए।



ट्रंप के मुताबिक उन्होंने गृह सुरक्षा मंत्रालय से कहा है कि वह अदालती आदेश के बाद देश में दाखिल होने वाले लोगों की बेहद ‘‘सावधानीपूर्वक’’ जांच करें।



ट्रंप ने कल ट्वीट किया,

यकीन नहीं आता कि कोई न्यायाधीश हमारे देश को ऐसे खतरे में डाल देगा। यदि कुछ होता है तो उसका दोष उन पर और न्याय व्यवस्था पर डाला जाए। लोग भीतर आते जा रहे हैं। यह बुरा है।

 

ट्रंप ने लिखा,

मैंने गृह सुरक्षा को निर्देश दिया है कि वह हमारे देश में आने वाले लोगों की जांच बेहद सावधानी के साथ करे। अदालतें इस काम को बहुत मुश्किल बना रही हैं।

 

ट्रंप की ओर से यह ये आलोचनात्मक बयान दरअसल सेन फ्रांसिस्को स्थित नाइन्थ यूएस अपीली अदालत के एक संक्षिप्त आदेश के बाद आ रहे हैं। इस संक्षिप्त आदेश में प्रशासन के उस अनुरोध को खारिज कर दिया गया है, जिसमें प्रतिबंध पर अस्थायी रोक लगाने वाले सीएटल के न्यायाधीश जेम्स रॉबर्ट के फैसले को दरकिनार करने के लिए कहा गया था।

Maxresdefault (1)

ट्रंप ने कहा कि अमेरिका को इस्लामी आतंकियों से सुरक्षित रखने के लिए ईरान, इराक, लीबिया, सोमालिया, सूडान, सीरिया और यमन के नागरिकों पर 90 दिन का यात्रा प्रतिबंध और सभी शरणार्थियों पर 120 दिन का प्रतिबंध जरूरी है।

यात्रा प्रतिबंधों के चलते अमेरिका में विरोध प्रदर्शन शुरू हो गए और अमेरिका के सहयोगियों ने इस प्रतिबंध की आलोचना की। इन प्रतिबंधों के कारण हजारों लोगों के लिए परेशानी के हालात पैदा हो गए। इनमें से कुछ लोग ऐसे थे, जो वर्षों से शरण मांग रहे थे।


कमेंट करें