नेशनल

बोधगया मंदिर को धमाके से दहलाने की साजिश नाकाम, 2 बम को किया गया डिफ्यूज

आशुतोष कुमार राय, न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2001
| जनवरी 20 , 2018 , 07:44 IST

बोधगया को दोबारा दहलाने की साजिश तब नाकाम हुई जब तिब्बती धर्मगुरु दलाई लामा का दौरा चल रहा है, संदिग्ध आतंकियों ने महाबोधि मंदिर परिसर के आसपात तीन जगहों पर विस्फोटक छुपा रखे थे। महाबोधि मंदिर के पास विस्फोटक मिलने से हड़कंप मच गया।

पुलिस को जांच में 2 जिंदा बम मिले। पूरे इलाके में सघन तलाशी अभियान शुरू किया कर दिया गया है। बिहार पुलिस ने तीन जगहों से विस्फोटक मिलने की पुष्टि की है। बताया जाता है कि कालचक्र मैदान के गेट नम्बर चार के जेनरेटर के पास थरमस फटने की घटना हुई। इसकी आवाज सुनकर सुरक्षा में तैनात पुलिसवाले वहां पहुंचे।

आसपास के इलाके को पुलिस ने अपने घेरे में लेकर तलाशी शुरू कर दी। इसी दौरान लावारिस हालत में वहां एक बैग मिला। संदिग्ध वस्तु दिखने के बाद तत्काल बम निरोधक दस्ता को बुलाया गया। स्कैन करने पर केन में विस्फोटक की बात सामने आई।

MAHABODHI-TEMPLE

इसके बाद तलाशी का दायरा बढ़ा दिया गया। पुलिस के मुताबिक श्रीलंका मॉनिस्ट्री के पास चौराहे के करीब एक पेड़ के चबूतरे के नीचे बैग में रखा दूसरा विस्फोटक मिला। साथ ही महाबोधि मंदिर के बाहर लाल चबूतरा के पास भी ऐसा ही एक थैला दिखा। जांच में इसमें भी विस्फोटक होने की बात सामने आई।   

सीआरपीएफ और एसएसबी के बम निरोधक दस्ता ने सबसे पहले तीनों विस्फोटकों को अपने कब्जे में लेते हुए वहां से हटा दिया। विस्फोटक भीड़भाड़ से दूर सुरक्षित स्थान पर रखे गए हैं। उनकी छानबीन की जा रही है। बताया जाता है कि उसमें अमोनियम नाइट्रेट समेत दूसरे विस्फोटक और तार लगे हैं। मगध रेंज के डीआईजी और गया की एसएसपी गरिमा मलिक मौके पर मौजूद हैं।

इसे भी पढ़ें:- राहुल के PM मोदी से 3 सवाल, बोले- हरियाणा में कब थमेगी रेप की वारदात? जरा बताएं

आनन-फानन में बम निरोधक दस्ते को भी बुला लिया गया। बता दें कि शुक्रवार को महाबोधि मंदिर के पास विस्फोटक मिलने की खबर आने से पहले बिहार के गवर्नर सतपाल मलिक ने भी यहां आकर पूजा-अर्चना की, सुरक्षा के लिहाज से महाबोधि मंदिर बेहद संवेदनशील है। इससे पहले साल 2013 में महाबोधि मंदिर में सीरिलय बम ब्लॉस्ट हुए थे।

अब एक बार फिर से विस्फोटक मिलने से सुरक्षा बलों के हाथ-पैर फूल गए हैं। फिलहाल इलाके की जांच की जा रही है। सुरक्षा बलों ने मंदिर की पूरी घेराबंदी कर ली है। साथ ही पुलिस विस्फोटक को बरामद करके फल्गु नदी की ओर ले गई, जहां उसको डिफ्यूज किया जा रहा है। घटनास्थल पर गया के एसएसपी और डीआईजी भी मौजूद हैं। सुरक्षा कारणों से मीडिया को फल्गु नदी के नजदीक जाने नहीं दिया जा रहा है।


कमेंट करें