नेशनल

आधार डाटा बेचे जाने का खुलासा करने वाली ट्रिब्यून की रिपोर्टर पर UIDAI ने कराई FIR

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
181
| जनवरी 7 , 2018 , 13:03 IST

आधार डाटा बिकने की खबर प्रकाशित करने वालें अखबार ‘द ट्रिब्‍यून’ और पत्रकार के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की गई है। बता दें कि इस मामले में एक्शन लेते हुए यूआईडीएआई ने ‘द ट्रिब्‍यून’ और रिपोर्टर रचना खैरा के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराई है। यह एफआईआर उस रिपोर्ट को लेकर कराई गई है जिसमें आधार के गोपनीय डाटा में कथित सेंधमारी की बात कही है।

हाल ही में ‘द ट्रिब्‍यून’ ने अपने रिपोर्ट में खुलासा किया था कि 500 रूपये के बदले करोड़ों आधार के गोपनीय डाटा को बेचा जा रहा है। जबकि यूआईडीएआई ने इस रिपोर्ट को खारिज कर कहा था कि आधार पूरी तरह सुक्षित है और इसमें सेंध लगाना संभव नहीं है।

खबर के मुताबिक इस एफआईआर में अनिल कुमार, सुनील कुमार और राज का भी नाम है, द ट्रिब्यून की रिपोर्ट में इन लोगों ने बताया था कि रिपोर्टिंग के दौरान खैरा ने इनसे संपर्क किया था। ज्‍वाइंट कमिश्‍नर ऑफ पुलिस (क्राइम ब्रांच) आलोक कुमार ने एफआईआर दर्ज करने की पुष्टि की है।

साइबर सेल में आईपीसी की विभिन्‍न धाराओं (419, 420, 468 और 471) के तहत मामला दर्ज कराया गया है। इसके अलावा आईटी एक्‍ट और आधार कानून के प्रावधानों को भी इसमें जोड़ा गया है। यह मामला यूआईडीएआई के शिकायत निवारण विभाग के बीएम पटनायक ने दर्ज कराया है।

क्या है ‘द ट्रिब्‍यून’ की रिपोर्ट:

‘द ट्रिब्‍यून’ ने यह दावा किया था कि कोई भी व्यक्ति 500 रुपए देकर किसी भी व्यक्ति के आधार का डाटा खरीद सकता है। खबर के अनुसार, यदि आपको आधार डेटा चाहिए तो बस पेटीएम के माध्यम से 500 रुपए देना होगा और 10 मिनट के भीतर सारी जानकारी आपको दे दी जाएगी। रिपोर्ट में दावा किया गया है कि एक रैकेट है जो कि गेटवे नाम के माध्यम से लॉग इन और पासवर्ड देगा। इसके बाद किसी का भी आधार नंबर उसमें डालने पर आपको उस नंबर पर उपलब्ध सारी जानकारियां मिल जाएगी।

कांग्रेस ने जताया विरोध:

‘द ट्रिब्‍यून’ और उसके पत्रकार पर हुई एफआईआर पर कांग्रेस ने विरोध जताया है। कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर बीजेपी को निशाने पर लिया है।

UIDAI ने ट्रिब्यून को गलत खबर के लिए भेजा नोटिस:


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें