बिज़नेस

मोबाइल में सेव हो रहे UIDAI के नंबर में गूगल की गलती, यूजर्स से मांगी माफी

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2724
| अगस्त 4 , 2018 , 09:41 IST

ऐंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम वाले मोबाइल फोनों में यूनीक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) का कथित हेल्पलाइन नंबर सेव होने के पीछे गूगल का हाथ सामने आया है। गूगल ने इसे अनजाने में हुई गलती करार दिया है। बीते 2 दिनों से सोशल मीडिया इस सवाल से गर्माया हुआ था कि आखिर ऐंड्रॉयड ऑपरेटिंग सिस्टम वाले मोबाइल फोनों में UIDAI का कथित हेल्पलाइन नंबर कहां से आ गया।

गूगल ने बयान जारी कर कहा हम इस कारण हुई तकलीफ के लिए माफी मांगते हैं। हम लोगों को यह विश्वास दिलाना चाहते हैं कि यह ऐंड्रॉयड डिवाइस में अनधिकृत प्रवेश का मामला नहीं है। यूजर्स इस नंबर को मैन्यूअली डिलीट कर सकते हैं।

आपको बता दें कि शुक्रवार को हजारों स्मार्टफोन यूजर्स के मोबाइल फोनबुक में UIDAI के नाम से एक टोल फ्री हेल्पलाइन नंबर अपने आप सेव हो रहा है।

1800-300-1947 नंबर वैलिड नहीं 

इस खबर के सामने आते ही आधार जारी करने वाली संस्‍था UIDAI ने लोगों को सतर्क करते हुए कहा कि उन्होंने किसी भी फोन निर्माता कंपनी और सर्विस प्रोवाइडर को इसके लिए कभी भी नहीं कहा। इसके साथ ही उसने साफ किया कि 1800-300-1947 उसका हेल्पलाइन नंबर है ही नहीं, बल्क‍ि 1947 उसका टोल फ्री नंबर है।

यूजर्स ने कहा "ये कोई मजाक नहीं"

यूजर्स इसको लेकर टि्वटर और अन्य सोशल मीडिया साइट्स पर शिकायत कर रहे हैं। यूजर्स का कहना है कि उन्होंने कभी भी ये नंबर अपने मोबाइल में सेव नहीं किए। साथ ही कुछ यूजर्स का कहना है कि उनहोंने यूआईडीएआई का ऐप भी डाउनलोड नहीं किया है। एक यूजर ने ट्वीट किया है, 'यह कोई मजाक नहीं है। मैंने नंबर सेव नहीं किए। तुरंत अपना फोन चेक करें, मुझे चिंता हो रही है।'

फ्रांस के एक सुरक्षा विशेषज्ञ भी हुए चिंतित

फ्रांस के एक सुरक्षा विशेषज्ञ इलियट एलडर्सन ने टि्वटर पर यूआईडीएआई से कहा, 'कई लोग जो अलग-अलग टेलीकॉम ऑपरेटर की सर्विस यूज कर रहे हैं। इसमें कुछ लोगों के पास आधार है और कुछ के पास नहीं। उनके मोबाइल में यूआईडीएआई के नाम से एक नंबर सेव दिख रहा है। कैसे?''


कमेंट करें