नेशनल

केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार का निधन, बेंगलुरू के अस्पताल में कैंसर का चल रहा था इलाज

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
1813
| नवंबर 12 , 2018 , 08:15 IST

पिछले कुछ वक्त से बीमार चल रहे केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार का सोमवार सुबह निधन हो गया। केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार को कैंसर था, जिसका पिछले काफी वक्त से इलाज चल रहा था। 59 साल के अनंत का पहले लंदन और न्यूयॉर्क में इलाज चला और 20 अक्टूबर को ही उन्हें बेंगलुरु लाकर एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती किया गया था।

शुक्रवार को उनकी पत्नी ने जानकारी दी थी कि अब अनंत ठीक हैं, लेकिन फिर अचनाक उनकी तबीयत कैसे बिगड़ी इसकी फिलहाल जानकारी नहीं है। तब कैंसर के साथ उनको कुछ इन्फेक्शन होने की बात भी सामने आई थी। तबीयत बिगड़ने की वजह से अनंत पिछले कुछ वक्त से कृत्रिम सांस लेनेवाले यंत्र के सहारे थे और उन्हें आईसीयू में वेंटिलेटर पर रखा गया था।

उन्होंने आज(सोमवार) 1 बजकर 50 मिनट पर अंतिम सांस ली। अनंत कुमार के पार्थिव शरीर को सुबह 9 बजे के बाद बेंगलुरु के नेशनल कॉलेज ग्राउंड पर रखा जाएगा, जहां पर लोग उन्हें श्रद्धांजलि दे पाएंगे।
अनंत कुमार के निधन पर शोक जताते हुए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने कहा, 'अनंत कुमार का निधन देश के सार्वजनिक जीवन में बहुत बड़ी क्षति है, खासकर कर्नाटक के लोगों के लिए। उनके परिवार, सहयोगी और अनंत शुभेच्छुओं को मेरी सांत्वना।'

पीएम मोदी ने ट्वीट कर अनंत कुमार के निधन पर शोक जताया है। उन्होंने लिखा कि अहम सहयोगी और दोस्त के निधन से दुखी हूं। अनंत कुमार के परिवार और समर्थकों के लिए संवेदनाएं। उन्होंने कर्नाटक में पार्टी को मजबूत किया।

केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने श्रद्धांजलि देते हुए कहा, अपने अति वरिष्ठ सहयोगी और मित्र के असामयिक निधन से दुखी और सदमे में हूं। वे एक मंझे हुए सांसद थे जिन्होंने अपनी पूरी काबिलियत से देश की भरपूर सेवा की। लोक कल्याण के लिए उनके जुनून और समर्पण की जितनी तारीफ की जाए, कम है। दुख की इस घड़ी में मैं उनके परिजनों के साथ हूं।

अनंत कुमार के निधन पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने भी दुख व्यक्त किया। उन्होंने कहा, 'अनंत कुमार जी के निधन से मैं दुखी हूं। उनके परिजनों और मित्रों को मेरी सांत्वना. भगवान उनकी आत्मा को शांति दे। ओम शांति।'

बता दें कि अनंत कुमार पिछले कुछ दिनों से वेंटिलेटर पर थे। बेंगलूरु साउथ से लगातार 6 बार जीत हासिल करने वाले अनंत कुमार को फेफड़ों का कैंसर था। उनका इलाज लंदन और न्यू यॉर्क में भी हुआ था।

अनंत कुमार के निधन पर रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी दुख जताया है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा कि यह जानकर बहुत दुख हुआ अनंत कुमार अब हमारे बीच नहीं है। उन्होंने पूरे जीवन बीजेपी की सेवा की. बेंगलुरु हमेशा उनके दिल और दिमाग में था।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें