नेशनल

उन्नाव गैंगरेप: CBI की बड़ी कार्रवाई, थानेदार और दरोगा को किया गिरफ्तार

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
858
| मई 17 , 2018 , 12:27 IST

उन्नाव गैंगरेप और पीड़िता के पिता की हत्या के मामले में यूपी पुलिस के तत्कालीन दो अधिकारियों थानेदार अशोक सिंह भदौरिया और दरोगा कामता प्रसाद सिंह को गिरफ़्तार कर लिया है।

दोनों पर दुष्कर्म तथा लड़की के पिता की जेल में हत्या के मामले में गिरफ्तार भाजपा विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की मदद करने का आरोप है। कामता प्रसाद उस वक्त उन्नाव के माखी थाने में एसओ के पद पर तैनात थे।

सीबीआई के अनुसार 9 अप्रैल को, बलात्कार पीड़िता के पिता की उन्नाव के एक अस्पताल में रहस्यमयी परिस्थितियों में मौत हो गई थी. सेंगर के समर्थकों के साथ झगड़ा करने के मामले में उन्हें गिरफ्तार किया गया था. उसके बाद से ही पीड़िता के पिता न्यायिक हिरासत में थे।

सीबीआई के हाथ लगे कुछ अहम सुराग-:

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार जांच में पीडि़त लड़की के पिता की हत्या के मामले की जांच में सीबीआई को कई अहम सबूत मिले हैं। सूत्रों के अनुसार तत्कालीन एसओ सहित अन्य पुलिसकर्मियों ने लड़की के पिता को जेल भेजने के इरादे से ही फर्जी तरीके से पिस्टल की बरामदगी दिखाई थी।

पूछताछ के बाद हुई गिरफ्तारी-:

सीबीआई के आईजी जीएन गोस्वामी ने बताया कि अशोक सिंह भदौरिया और कामता प्रताप सिंह को गिरफ्तार किया गया है। इन दोनों को सीबीआई ने पूछताछ के लिए बुलाया था जिसके बाद गिरफ्तारी की गई है।

दोनों आरोपितों सहित माखी थाने के छह पुलिसकर्मियों को एसआइटी की जांच के बाद निलंबित कर दिया गया था। गौरतलब है कि पिछले दिनों मामले की सुनवाई करते हुए आरोपियों की गिरफ्तारी में देरी को लेकर हाईकोर्ट ने सीबीआई पर सवाल खड़े किए थे।

जाने क्या है पूरा मामला-:

मामला पिछले साल 4 जून का है। 17 साल की किशोरी की मां ने बीजेपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर समेत कुछ लोगों के खिलाफ रेप की शिकायत की थी। 3 अप्रैल को विधायक के भाई अतुल ने मुकदमा वापस लेने का दबाव बनाया।

इसे भी पढ़ें-: CBI ने किया कंफर्म- कुलदीप सेंगर ने किया था रेप, पुलिस ने आरोपी को बचाया

8 अप्रैल रविवार को पीड़िता ने परिवार समेत मुख्यमंत्री आवास के बाहर आत्मदाह की कोशिश की, लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक दिया था। 9 अप्रैल को पीड़िता के पिता की उन्नाव जेल में मौत हो गई। महिला ने उन्नाव में परिवार के खिलाफ कई झूठे मुकदमे दर्ज कराए जाने का भी आरोप लगाया था। मामले में माखी थाने के एसओ समेत 6 कॉन्स्टेबल पहले ही सस्पेंड किए जा चुके हैं।


कमेंट करें