नेशनल

देवरिया: बालिका गृह मामले में एक्शन में आए CM योगी, डीएम को हटाया

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2533
| अगस्त 6 , 2018 , 15:17 IST

बिहार के शेल्टर होम के केस के तर्ज पर ही उत्तर प्रदेश के देवरियां जिले में भी ऐसा ही मामला सामने आया है। जिसमें यहां के निजी बालिका गृह में रह रही लड़कियों ने भी कई गंभीर आरोप लगाए हैं। एक लड़की की शिकायत पर पुलिस ने रविवार रात छापा मारकर बालिका गृह से 24 बच्चियों और लड़कियों को छुड़ाया है। जांस में बताया जा रहा है कि बालिका गृह से 18 लड़कियां अभी भी गायब हैं।

मामले में पुलिस ने बालिका गृह के संचालिका गिरिजा त्रिपाठी, उनके पति मोहन तिवारी और बेटी को गिरफ्तार किया है। एसपी के निर्देश पर संस्था से 24 बच्चों व महिलाओं को मुक्त कराते हुए उसे सील कर दिया गया है।

मां विंध्यवासिनी महिला प्रशिक्षण एवं समाज सेवा संस्थान के द्वारा संचालित बाल गृह बालिका, बाल गृह शिशु, विशेषज्ञ दत्तक ग्रहण अभिकरण एवं स्वाधार गृह देवरिया की मान्यता को शासन ने स्थगित कर दिया है। इसके बाद भी संस्था में बालिकाएं, शिशु व महिलाओं को रखा जा रहा था। रविवार को बालिका गृह से बेतिया (बिहार) की रहने वाली एक बालिका प्रताडऩा के चलते भाग निकली। किसी तरह वह महिला थाने पहुंची और थानाध्यक्ष से आपबीती बताई।

कार से ले जाई जाती थीं लड़कियां-:

निजी बालिका गृह से भागकर रविवार को पुलिस के पास पहुंची एक बच्ची ने यह आरोप लगाया है कि यहां की पंद्रह से अठारह साल की लड़कियां रात में अलग-अलग गाड़ियों से कही ले जाई जाती हैं। इसके बाद अगले दिन सुबह रोते हुए वापस लौटती हैं। यही नहीं, यहां लड़कियों से झाड़ू-पोछा और बर्तन भी धुलवाए जाते हैं।

कई बार जिला प्रोबेशन अधिकारी और बल संरक्षण अधिकारी इस संस्था से बच्चियों को हैंडओवर करने के लिए नोटिस दे चुके थे। इसके बावजूद गिरजा त्रिपाठी अपने रसूख के चलते बच्चियों को हैंडओवर नहीं कर रही थी।

तीन-चार जगह हुई छापेमारी-:

एसपी ने बताया कि इसमें डीपीओ साहब और संबंधित विभाग जांच करेगा तीन-चार जगह छापेमारी की गई। 24 लड़कियां और बच्चियां बरामद की गई है। इसमें इन्वेस्टिगेशन और किया जाएगा। दस पंद्रह बच्चों, बुजुर्गों का पता नहीं चल रहा, ये बल गृह बलिया, गोरखपुर जाएंगे, जो गायब है उसे गिरजा त्रिपाठी से पूछा जाएगा। इसमें संचालिका गिरजा त्रिपाठी,उनके पति और बेटी को गिरफ्तार किया गया है।


कमेंट करें