नेशनल

गौर से देख लीजिए...ये हैं कासगंज के चंदन गुप्ता के फरार हत्यारे

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
4159
| जनवरी 30 , 2018 , 13:27 IST

उत्तरप्रदेश के कासगंज में तनाव अब भी बरकरार है। यहां हुई हिंसा में 6 अलग-अलग एफआईआर दर्ज कराई गई हैं। कुल 123 लोगों की गिरफ्तारी हो चुकी है।

पुलिस ने चंदन गुप्ता की हत्या के मामले में नामजद 20 में से 11 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है।

हत्याकांड में मुख्य आरोपी तीन सगे भाई नसीम, वसीम और सलीम वर्की अभी भी फरार हैं। पुलिस ने तीनों का फोटो जारी किया है।

Download (2)

इस बीच बरेली के कलेक्टर आर. विक्रम सिंह ने फेसबुक पर एक विवादास्पद पोस्ट में मुस्लिम मोहल्लों में पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाकर जुलूस निकालने पर सवाल उठाए। हालांकि बाद में उन्होंने यह पोस्ट डिलीट कर दी।

जिंदा है राहुल उपाध्याय

कासगंज हिंसा के दौरान हुई गोलीबारी में चंदन गुप्ता की मौत हो गई थी। इसके अलावा एक अन्य युवक राहुल उपाध्याय के मारे जाने की बात भी सोशल मीडिया पर वायरल हुई थी। अब खुद राहुल ने सामने आकर इस खबर का खंडन किया है। राहुल ने बताया कि दंगों के वक्त वह काजगंज में नहीं था, बल्कि अपने गांव गया था।26 जनवरी को कासगंज जिले के कोतवाली इलाके में बिलराम गेट चौराहे पर तिरंगा यात्रा के तहत विश्व हिंदू परिषद और एबीवीपी के कार्यकर्ता बाइक से रैली निकाल रहे थे।इस दौरान नारेबाजी को लेकर समुदाय विशेष के लोगों से बहस हो गई। तकरार में दोनों तरफ से फायरिंग, पत्थरबाजी हुई, जिसमें तिरंगा यात्रा में शामिल एक युवक चंदन गुप्ता की गोली लगने से मौत हो गई। दूसरे पक्ष के एक शख्स को भी गोली लगी थी। इसके बाद यहां तोड़फोर्ड और आगजनी की घटनाएं सामने आ रही हैं। रविवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने हिंसा में मारे गए युवक के परिवार वालों को 20 लाख रुपए मुआवजा देने का एलान किया था।


कमेंट करें