इंटरनेशनल

US-PAK में दरार को भुनाकर सैन्य ठिकाने बनाने की चाल में चीन

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
266
| जनवरी 6 , 2018 , 08:21 IST

अमेरिका और पाकिस्तान के रिश्तों में आई दरार से चीन को मौका मिल गया है और वह इसको भुनाने की फिराक में है। अमेरिका द्वारा 1.15 अरब डॉलर की सुरक्षा मदद और सैन्य उपकरणों की आपूर्ति रोकने जाने से पाकिस्तान तिलमिलाया हुआ है। उसको अब कुछ समझ में नहीं आ रहा है और वह अमेरिका की इस कार्रवाई का आरोप भारत पर मढ़ रहा है।

गुरुवार को पाकिस्तानी विदेश मंत्री ख्वाजा आसिफ ने कहा था कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप भारत की भाषा बोल रहे हैं। वहीं, ट्रंप की लताड़ के बाद पाकिस्तान के पक्ष में बयान जारी कर चीन ने हमदर्दी दिखाई थी।उसकी इस हमदर्दी के पीछे अपना खुद का बड़ा स्वार्थ छिपा है।

पाकिस्तान के ग्वादर बंदरगाह में निवेश करने के बाद अब चीन की निगाह जिवानी द्वीप पर है. वह यहां अपना सैन्य ठिकाना बनाने की फिराक में है। सामरिक नजरिए से बेहद अहम जिवानी द्वीप पाकिस्तान के ग्वादर जिले में आता है।

B083fe96fac21b51165606

जिवानी द्वीप ईरान सीमा से सटा हुआ है। इससे अहम बात यह है कि यह भारत द्वारा विकसित चाबहार बंदरगाह से बेहद करीब है। ऐसे में चीन की इस चाल से भारत की भी चिंता बढ़ सकती है।

अगर चीन जिवानी द्वीप में अपना सैन्य ठिकाना बनाने में कामयाब होता है, तो पाकिस्तान में यह उसका दूसरा सैन्य ठिकाना होगा। भारत के चाबहार बंदरगाह के जवाब में चीन जिवानी द्वीप में सैन्य ठिकाना बनाना चाहता है।

चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स ने दावा किया है कि अमेरिका ने भारत के साथ संबंध मजबूत करने के इरादे से पाकिस्तान के खिलाफ कार्रवाई की है। इससे पाकिस्तान और चीन के बीच सैन्य व कारोबारी संबंध और मजबूत होंगे।

चीनी अखबार ने कहा कि पाकिस्तान और चीन के बीच पहले से ही अच्छे रिश्ते हैं, लेकिन ट्रंप प्रशासन द्वारा मदद रोकने से दोनों देशों के बीच संबंध और प्रगाढ़ होंगे। इससे दोनों देशों के बीच सैन्य नजदीकियां भी बढ़ेंगी।

वहीं, चीन और पाकिस्तान के करीब आने की अटकलों के बीच अमेरिकी विदेश विभाग के एक अधिकारी ने कहा, ''मेरा मानना है कि वे (पाकिस्तान) दोनों देशों के साथ मजबूत संबंध बनाना चाहते हैं, लेकिन यह जरुरी नहीं कि जो अमेरिका से मिलेगा, वहीं उन्हें चीन से मिलेगा. इस बात से पाकिस्तान भी भलीभांति वाकिफ है।''

उन्होंने कहा, हमारे पास यह क्षमता नहीं है कि हम बैंकों और कंपनियों को पाकिस्तान में 55 अरब डॉलर निवेश करने के निर्देश दें, लेकिन साथ ही चीन के पास भी यह क्षमता नहीं है कि वह दुनिया को सर्वोच्च गुणवत्ता के सैन्य उपकरण मुहैया कराए।

जिवानी द्वीप पर सैन्य ठिकाना बनानेे के चीन के मंसूबे का एक अमेरिकी अखबार पहले ही खुलासा कर चुका है. हाल ही में अमेरिकी अखबार वॉशिंगटन टाइम्स ने दावा किया था कि ग्वादर बंदरगाह के पास चीन अपना सैन्य ठिकाना बनाना चाहता है और इसके लिए पाकिस्तान से बातचीत भी कर रहा है. हालांकि बाद में चीन ने इस रिपोर्ट को खारिज कर दिया था।

नववर्ष पर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने आतंकवाद को लेकर पाकिस्तान को जमकर लताड़ लगाई थी। उन्होंने ट्वीट किया था, ''पिछले 15 वर्षों में अमेरिका ने मूर्खतापूर्वक पाकिस्तान को 33 अरब डॉलर से ज्यादा की आर्थिक मदद दी, लेकिन पाकिस्तान ने इसके जवाब में झूठ और धोखा के सिवाय कुछ नहीं दिया। वह हमारे नेताओं को मूर्ख समझता है. उसने उन आतंकियों को सुरक्षित पनाह दिया, जिनके खिलाफ अफगानिस्तान में हम अभियान चला रहे हैं। अब ऐसा नहीं होगा।''

ट्रंप की इस लताड़ के बाद अमेरिका ने पाकिस्तान को सुरक्षा सहायता के तौर पर 1.15 अरब डॉलर से अधिक धन और सैन्य उपकरणों की आपूर्ति पर रोक भी लगा दी. अमेरिका का कहना है कि तालिबान और हक्कानी नेटवर्क जैसे आतंकी संगठनों पर कार्रवाई करने में पाकिस्तान विफल रहा. वह अपनी सरजमीं से आतंकियों के पनाहगाह को भी नेस्तनाबूद करने में नाकाम रहा।

 


कमेंट करें