इंटरनेशनल

मसूद के खिलाफ US-UK और फ्रांस ने मिलाया हाथ, 50 घंटे से कर रहे चीन से बात

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1544
| मार्च 16 , 2019 , 12:34 IST

जैश-ए-मोहम्मद के सरगना आतंकी मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने की पहल एक बार फिर शुरू हो गई है। इस मामले में अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन ने चीन से बात की है। इस बातचीत में सुरक्षा परिषद के तीनों सदस्य देशों ने मसूद अजहर के खिलाफ चीन से समझौता करने का प्रयास किया है। माना जा रहा है कि यह बातचीत अच्छी रही और जल्द ही इस मामले में नया मोड़ आ सकता है। वहीं भारत के अधिकारिक सूत्रों ने बताया कि भारत संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की प्रतिबंध कमिटी के साथ मसूद को वैश्विक आतंकी घोषित करने पर अब भी काम कर रहा है।

ऐसा माना जा रहा है कि अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन अब चीन के साथ गहन 'सकारात्मक' चर्चा कर रहे हैं, ताकि आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद समिति में वैश्विक आतंकवादी घोषित करने को लेकर कोई 'समझौता' किया जा सके। इस मामले के जानकार लोगों के मुताबिक अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित करने संबंधी प्रस्ताव की भाषा को लेकर भी चीन से बातचीत कर रहे हैं।

आपको बता दें कि फ्रांस ने आतंकी मसूद पर बड़ा ऐक्सन लिया है। फ्रांस ने अब जैश सरगना मसूद की संपत्ति को जब्त करने का फैसला किया है। जैश के खिलाफ फ्रांस की अबतक की यह सबसे बड़ी कार्रवाई मानी जा रही है।

जैश की संपत्ति जब्त करने के बाद फ्रांस ने साफ कर दिया है कि वो अपने देश में जैश को पाई पाई के लिए मोहताज कर देगा। बता दें कि एक दिन पहले ही चीन के अपने वीटो पावर का इस्तेमाल करते हुए आतंकी मसूद को ग्लोबल आतंकी घोषित करने के फैसले पर अड़ंगा लगा दिया था जिसके बाद से पूरे देश में लोगों ने चीन का बहिष्कार करना शुरू कर दिया। इसके साथ ट्वीटर पर #Boycottchina, #Boycottchineseproduct ट्रेंड करने लगा था। चीन के इस रवैये से सभी देस नाराज हो गए थे। चीन के इस फैसले पर अमेरिका ने भी कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी।

अमेरिका ने कहा था कि अगर चीन आतंकी मसूद अजहर के खिलाफ अपना रुख साफ नहीं करेगा तो हम दूसरे तरीकों से उस पर कार्यवाही करेंगे। अमेरिका के राषट्रपति डॉनल्ड ट्रंप और विदेश मंत्रालय के उप प्रवक्ता रोबर्ट पलाडिनो ने भी कहा था कि मसूद अजहर को वैश्विक आतंकवादी घोषित किए जाने के लिए पर्याप्त कारण हैं।


कमेंट करें