इंटरनेशनल

अमेरिका ने जारी की नई ट्रेवल एडवाइजरी, भारत को बताया महिलाओं के लिए असुरक्षित

icon अमितेष युवराज सिंह | 0
609
| जनवरी 11 , 2018 , 15:43 IST

अमेरिका ने 10 जनवरी अपने नागरिकों के लिये नई ट्रेवल एडवाइजरी जारी की है। इसमें भारत को लेवल 2 और पाकिस्तान को लेवल 3 पर रखा गया है। जबकि वो भारत को 'मित्रवत' मानता आया है।

भारत को लेवेल 2 में रखे जाने के पीछे जो कारण बताए हैं उनमें आतंकी घटनाएं, विदेशी यात्रियों के साथ होने वाले अपराध, रेप और लूटपाट शामिल हैं। आपको बता दें कि अमेरिका में लेवल के आधार पर अन्य देशों को सुरक्षा के आधार पर मापा जाता है। इन्हीं लेवल के आधार पर एयरपोर्ट पर चैकिंग, वीज़ा आदि संबंधी चीजों को देखा जाता है। और अमेरिकी नागरिकों को उस देश की सुरक्षा के बारे में चौकन्ना किया जाता है।

फिलहाल सभी देश अब नागरिकों की सुरक्षा को लेकर ट्रवेल एडवाइज़री जारी करते हैं और उसका लेवेल तय करते हैं।

अमेरिकी विदेश विभाग ने कहा, 'इससे अमेरिकी नागरिकों को इससे सही जानकारी मिलेगी। दुनिया के देशों में उन्हें सुरक्षा से जुड़ी समय पर और सही जानकारी मिलेगी।'

भारत को लेवेल 2 पर रखने के पीछे कारण बताया है कि 'अपराध और आतंकवाद' को। हालांकि अमेरिका ने अपने नागरिकों को जम्मू-कश्मीर जाने से मना किया है, लेकिन लेह और लद्दाख जा सकते हैं। इसके साथ ही भारत पाकिस्तान की सीमा से 10 किलोमीटर के दायरे में भी जाने से मना किया है। क्योंकि वहां पर 'युद्ध का खतरा' रहता है।

एडवाइज़री में कहा गया है, 'भारतीय प्रशासन का कहना है कि भारत में रेप की वारदातों में वृद्धि हुई है। खतरनाक अपराध, जैसे यौन उत्पीड़न की घटनाएं टूरिस्ट स्थानों और दूसरी जगहों पर बढ़ी हैं।'

इसके अलावा आतंकवाद और हथियारबंद संगठन पूर्व-मध्य में सक्रिय हैं। एडवाइज़री में कहा है, 'सरकारी संस्थानों, बाज़ारों, मॉल्स, टूरिस्ट स्थानों और यातायात के अड्डों पर आतंकवादी बिना चेतावनी दिये भी हमला कर सकते हैं।'

अमेरिका ने पाकिस्तान के बलोचिस्तान प्रांत में अपने नागरिकों को जाने से मना किया है।

किस लेवल का क्या मतलब -

लेवल 1- सबसे कम खतरनाक देश को इस लेवल में रखा जाता है जिसके तहत सिर्फ अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट पर सख्त चैकिंग हो सकती है।

लेवल 2- इस लेवल के दौरान सुरक्षा का पैमाना बढ़ जाता है।

लेवल 3- इस लेवल पर रखे गए देश में आपातकालीन स्थिति में यात्रा ना करने को कहा जाता है क्योंकि उस वक्त इन देशों में रिस्क काफी बढ़ जाता है।

लेवल 4- इन देशों को यात्रा करने के लिए बिल्कुल भी सुरक्षित नहीं माना जाता है। यहां यात्रा करने से जान को खतरा हो सकता है।


author
अमितेष युवराज सिंह

लेखक न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया में असिस्टेंट एग्जीक्यूटिव एडिटर हैं

कमेंट करें