नेशनल

जिग्नेश मेवानी और उमर खालिद के कारण मुंबई में हुई हिंसा, इनके खिलाफ शिकायत दर्ज

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 1
775
| जनवरी 2 , 2018 , 23:04 IST

पुणे में 200 साल पुराने भीमा-कोरेगांव युद्ध की बरसी को लेकर जातीय संघर्ष छिड़ चूका है। इस हिंसक झड़प में अब तक एक की मौत हो चुकी है, जबकि बड़ी संख्या में लोग घायल हुए हैं। क्षेत्र में बढ़ते हिंसक प्रदर्शन को देखते हुए सुरक्षा को बढ़ा दी गई है। बहरहाल राज्य सरकार ने न्यायिक जांच के आदेश दिए हैं। 

इधर मंगलवार को पुणे के दो युवा अक्षय बिक्कड और आनंद डॉन्ड ने विधायक जिग्नेश मेवानी और जेएनयू के छात्र उमर खालिद के खिलाफ लिखित में शिकायत देते हुए FIR की मांग की है। ये शिकायत पुणे के डेक्कन पुलिस स्टेशन में दर्ज की गयी है। शिकायतकर्ताओं का ऐसा आरोप है कि जिग्नेश मेवानी और उमर खालिद ने कार्यक्रम के दौरान भड़काऊ भाषण देने के कारण यह दंगा हुआ है।

इसे भी पढ़ें: मुंबई-पुणे में उग्र हुई जातीय हिंसा, धारा 144 लागू, कल महाराष्ट्र बंद

शिकायतकर्ताओं की मानें तो जिग्नेशन मेवानी के भाषण के बाद से ही महाराष्ट्र में जातीय हिंसा भड़क उठी है। क्योंकि भाषण के दौरान ही जिग्नेश मेवानी ने एक खास वर्ग को सड़क पर उतर कर विरोध करने के लिए उकसाया था।

शिकायतकर्ताओं की माने तो इसके बाद से ही लोग सड़क पर उतर आए और फिर धीरे-धीरे भीड़ ने हिंसक रूप ले लिया। जिसके कारण एक की मौत भी हो गयी। इतना ही नहीं शिकायतकर्ताओं के मुताबिक पुणे हिंसा के लिए ये यही दोनों जिम्मेदार हैं। जिसके कारण इनके खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: भीमा-कोरेगांव हिंसा: राहुल ने फडणवीस सरकार को लपेटा, बोले- दलित विरोधी है BJP

जानकारी के लिए बता दें कार्यक्रम में विधायक जिग्नेश मेवानी कहा था कि, आने वाली 14 अप्रैल को नागपुर में जाकर आरएसएस मुक्त भारत अभियान की शुरुआत करेंगे। इस परिषद में प्रकाश आंबेडकर, पूर्व न्यायाधीश बी.जी. कोलसे पाटिल, लेखिका और कवि उल्क महाजन आदि उपस्थित थे।तो वहीं मुंबई पुलिस का कहना है कि, अलग-अलग जगहों पर 100 से ज्यादा लोगों को गिरफ्त में लिया जा चुका है। 


कमेंट करें