इंटरनेशनल

Women's Day पर गूगल का डूडल, जानें क्यों मनाया जाता है महिला दिवस

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
1541
| मार्च 8 , 2018 , 12:39 IST

आज (8 मार्च) अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर गूगल ने डूडल बनाकर महिलाओं को सम्मान दिया है। इस गूगल डूडल में कई खास बाते हैं। इसमें कई डिज़ाइन्स हैं और हर एक में अलग-अलग कहानी है। इसमें गूगल ने 12 फीमेल आर्टिस्ट से गूगल ने बात की। दुनिया की अलग हिस्सों की इन आर्टिस्ट ने अलग अलग महिलाओं की कहानियां बनाईं।

ये कहानियां internatioal women's day 2018 के गूगल डूडल का हिस्सा है। गूगल का कहना है कि हर कहानी एक लम्हे, एक व्यक्तित्व और घटना को बताती है, जो एक महिला के रूप में जीवंत हुई। गूगल डूडल पर आप जो 12 कहानियां देखेंगे उनकी लिस्ट ये रही। गूगल #herstoryourstory चला रहा है।

International-womens-day-google-doodle

Anna Haifisch – “Nov 1989”

Chihiro Takeuchi – “Ages and Stages”

Estelí Meza – “My Aunt Blossoms”

Francesca Sanna – “The Box”

Isuri – “Aarthi the Amazing”

Karabo Poppy Moletsane – “Ntsoaki’s Victory”

Kaveri Gopalakrishnan – “Up on the Roof”

Laerte – “Love”

Philippa Rice – “Trust”

Saffa Khan – “Homeland”

Tillie Walden – “Minutes”

Tunalaya Dunn – “Inwards”

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की कैसे हुई शुरुआत:

1908 में 15000 महिलाओं ने न्यूयॉर्क सिटी में वोटिंग अधिकारों की मांग के लिए, काम के घंटे कम करने के लिए और बेहतर वेतन मिलने के लिए मार्च निकाला। एक साल बाद अमेरिका की सोशलिस्ट पार्टी की घोषणा के अनुसार 1909 में यूनाइटेड स्टेट्स में पहला राष्ट्रीय महिला दिवस 28 फरवरी को मनाया गया। 1910 में clara zetkin (जर्मनी की सोशल डेमोक्रेटिक पार्टी की महिला ऑफिस की लीडर) नामक महिला ने अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाने का विचार रखा, उन्होंने सुझाव दिया की महिलाओं को अपनी मांगो को आगे बढ़ने के लिए हर देश में अंतराष्ट्रीय महिला दिवस मनाना चाहिए।1457436083-international-women-s-day

एक कांफ्रेंस में 17 देशो की 100 से ज्यादा महिलाओं ने इस सुझाव पर सहमती जताई और अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस की स्थापना हुई, इस समय इसका प्रमुख उद्देश्य महिलाओं को वोट का अधिकार दिलवाना था। 19 मार्च 1911 को पहली बार आस्ट्रिया डेनमार्क, जर्मनी और स्विट्ज़रलैंड में अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस मनाया गया। 1913 में इसे ट्रांसफर कर 8 मार्च कर दिया गया और तब से इसे हर साल इसी दिन मनाया जाता है।


कमेंट करें