नेशनल

जानें जाकिर हुसैन के तबले की धुन पर लोग क्यों कहते हैं 'वाह उस्ताद' (जन्मदिन विशेष)

न्यूज़ वर्ल्ड इंडिया | 0
2410
| मार्च 9 , 2018 , 15:30 IST

पूरी दुनिया में अपने हुनर की छाप छोड़ने वाले 'तबला सुल्तान' जाकिर हुसैन का जन्म 9 मार्च 1951 में आज ही के दिन हुआ था। ये जाकिर हुसैन की लोकप्रियता हीं है कि वो दुनिया के सबसे ज्यादा प्यार पाने वाले कलाकारों में शुमार हैं। उनकी उंगलियों और तबले में गजब का मेल है। उस्ताद जाकिर हुसैन उन चंद कलाकारों में से हैं जिन्होंने लोकप्रियता के पैमाने पर अपने उस्ताद और वालिद उस्ताद अल्लारखा खां साहब को भी पीछे छोड़ दिया।

आइए जानते हैं उनके जीवन के बारे में..

जाकिर हुसैन मशहूर तबला वादक कुरैशी अल्ला रक्खा खान के पुत्र हैं। अल्ला रक्खा खान भी तबला बजाने में माहिर माने जाते थे। उनका बचपन मुंबई में ही बीता।

शिक्षा:

मुंबई में पैदा हुए जाकिर ने सेंट जेवियर्स कॉलेज से पढ़ाई की। 11 साल की उम्र में अमेरिका में अपना पहला कॉन्सर्ट किया। 1973 में उनका पहला एलबम 'लिविंग इन द मैटेरियल वर्ल्ड' आया था।1973 से लेकर 2007 तक जाकिर हुसैन विभिन्न अंतरराष्ट्रीय समारोहों और एलबमों में अपने तबले का दम दिखाते रहे। वह भारत में तो बहुत ही प्रसिद्ध हैं ही साथ ही विश्व के विभिन्न हिस्सों में भी समान रुप से लोकप्रिय हैं। 

पुरस्कार:

जाकिर को पद्म श्री, पद्म विभूषण और संगीत नाटक अकादमी सम्मान से नवाजा गया है। वो ग्रैमी अवॉर्ड हासिल कर चुके हैं। अमेरिका में कलाकारों को दिया जाने वाला सर्वोच्च सम्मान उन्हें मिल चुका है जाकिर, बिल लाउसवैस के ग्लोबल म्यूजिक सुपरग्रुप 'तबला बीट साइंस' के संस्थापक सदस्य हैं।

ZakirHussain

1992 में 'जाकिर की शादी एंटोनिया मिनीकोला से हुई जो एक कत्थक डांसर और शिक्षिका हैं। वो जाकिर की मैनेजर भी हैं। इन दोनों की बेटियां हैं अनीसा कुरैशी और इजाबेला कुरैशी।

 


कमेंट करें